Business

₹420 करोड़ का क्रोनस फार्मा सौदा रद्द करने के बाद अरबिंदो फार्मा लगभग 7% उछल गया

अरबिंदो फार्मा ने 12 अगस्त को घोषणा की कि उसने हैदराबाद स्थित क्रोनस में नए इक्विटी शेयरों की सदस्यता के लिए निश्चित समझौते किए हैं।

अरबिंदो फार्मा के शेयर सोमवार को 6 प्रतिशत से अधिक चढ़ गए, जब कंपनी ने कहा कि उसने इसे रद्द कर दिया है क्रोनस फार्मा स्पेशलिटीज इंडिया प्राइवेट लिमिटेड में 51 फीसदी हिस्सेदारी हासिल करने के लिए 450 करोड़ रुपये का सौदा विश्लेषकों का मानना ​​है कि इस सौदे से अरबिंदो की पूंजी आवंटन रणनीति पर चिंताएं पैदा हुईं।

अरबिंदो फार्मा ने शुक्रवार को एक नियामक फाइलिंग में कहा, “निदेशक मंडल ने आज हुई बैठक में उपरोक्त समझौतों को समाप्त करने की मंजूरी दे दी है, और पार्टियों ने परस्पर सहमति व्यक्त की है और उक्त समझौतों को समाप्त कर दिया है।” प्रस्तावित सौदा।

अरबिंदो फार्मा ने 12 अगस्त को घोषणा की कि उसने हैदराबाद स्थित क्रोनस में नए इक्विटी शेयरों की सदस्यता के लिए निश्चित समझौते किए हैं। कंपनी ने कहा कि उसने जेनेरिक पशु चिकित्सा दवा उत्पाद फर्म के साथ 95,059,963 इक्विटी शेयरों की सदस्यता लेकर 51 प्रतिशत स्वामित्व के अधिग्रहण के लिए बाध्यकारी समझौते किए हैं। 10 प्रत्येक के प्रीमियम पर 34.18 प्रति इक्विटी शेयर कुल मिलाकर 420 करोड़।

अरबिंदो फार्मा ने उस समय कहा था कि अधिग्रहण से उसे 48 अरब डॉलर के वैश्विक पशु स्वास्थ्य बाजार में पैर जमाने में मदद मिलेगी। क्रोनस की पाइपलाइन में 67 उत्पाद हैं, जिनमें से 22 को दायर किया गया है और छह को यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) के पशु चिकित्सा केंद्र द्वारा अनुमोदित किया गया है।

अरबिंदो फार्मा के स्टॉक में 18 फीसदी की गिरावट आई है, क्योंकि इसने अपने उम्मीद से कम वित्त वर्ष २०१२ के नतीजों की घोषणा की है, यूएस एफडीए द्वारा अपने यूनिट I प्लांट के निरीक्षण और क्रोनस फार्मा में ५१ फीसदी हिस्सेदारी के अधिग्रहण के बाद सात टिप्पणियों की घोषणा की है।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button